सतीश ने जिंदा जलाया अपनी ही पत्नी को- आरोपी क्रुर पति को आजीवन कारावास।



समाज में पुनर्विवाह जीवन को नई दिशा के लिये किया जाता है मगर यहां तो एक ऐसी दर्द भरी दास्ता सामने आयी है जिसने नव जीवन की नई उम्मीद को जला कर खाक कर दिया। 
एक पति ने बेहरमी से अपनी पत्नी को जिंदा जला कर जान से मारने की कोशिश की और अंत में वह सफल भी हुआ।
जानकारी के अनुसार पालिया निवासी बबिता ने एम वाय हॉस्पीटल में रिपोर्ट दर्ज करवाई कि उसके पति ने उसे जान से मारने की नियत से जिंदा जलाया। 
बबिता ने पुलिस को बताया था कि, ग्राम मुण्डका कलमा में उसका मायक है और परिजनों की मर्जी से उसने पुनर्विवाह किया। 



14-09-2017 को शाम 07 बजे जब बारिश में भीगा सतीश घर पहुंचा तो बबिता उसके लिये टावेल लेकर आयी और बारिश में भिगे हुये पति को पोछने लगी। अचानक शतिश भड़क गया और झटके से बबिता को दूर कर उसे मा-बहन की गंदी गंदी गालिय बकने लगा और यह भी कहा की वो उसकी पत्नी नही है। जब बबिता ने गलियों का विरोध किया तो सतीश उसे मारने लगा और घर में रखे केरोसीन को उस पर डाल कर आग लगा दी। वह चिल्लाई और झूमा झटकी में सतीश के हाथ भी जल गये। जली हुई बबिता को उसने घर में ही पटक रखा फिर अगले दिन उसे एम वाय अस्पताल में भर्ती करवाया। 
जहां पर बबिता के परिजन, भाई और जिजा भी पहुंचे। बबिता का सीना दोनों हाथ मुंह नाक कान गला जल चूका था। 
पुलिस ने देहाती नासली दर्ज की। 

माननीय न्यायालय ने आरोपी सतीश पिता शिशुपाल चौहान को धारा 302 भादवि में आजीवन कारावास व 2000 रूपये अर्थदण्डर से दण्डित किया।
रिपोर्ट के आधार पर देहाती नालसी 0/17 दर्ज की की गयी एवं उसके आधार पर आरक्षी केन्द्रत हातोद जिला इंदौर पर अपराध क्रं. 175/17 पंजीबद्ध कर सम्पूवर्ण विवेचना उपरांत आरोपी के विरूद्ध  धारा 294,307,324,302 भादवि के अंतर्गत अभियोग पत्र न्यांयालय में पेश किया गया । जिस पर से आरोपी को उक्त  सजा सुनाई  गई।

रहें हर खबर से अपडेट झाबुआ समाचार के साथ

ख़बर पर आपकी राय

Famous Posts

Sports