अभय खरड़ी नहीं रहे अब, ICDS के प्रभारी - पिछले बूधवार को जिला कलेक्टर ने निकला था आदेश, सोमवार को प्रभार मुक्त हुये, मंगलवार से नई घोड़ी नया दाम।




महिला एवं बाल विकास विभाग में जब से जिला कार्यक्रम अधिकारी का राजनैतिक कारणों के चलते तबादला किया गया था उसके बाद से ही आईसीडीएस में कार्यक्रम अधिकारी का पद प्रभारी अधिकारी के भरोसे चलाया जा रहा है। और फिर विभाग में पदस्थ सहायक अधिकारी को हटा कर 03 जुलाई 2021 को डिप्टी कलेक्टर अभय खराडी को महिला एवं बाल विकास विभाग का प्रभार सौपा गया था। मगर सूत्रों के मुताबिक कार्यप्रणाली में भ्रष्टाचार की लत के कारण बीती 24 नवंबर को जिला कलेक्टर ने एक आदेश जारी कर दिया जिसमें डिप्टी कलेक्टर अभय सिह खराडी को प्रभार मुक्त कर दिया गया, और आईसीडीएस विभाग के ही महिला सशक्तीकरण अधिकारी को कार्यक्रम अधिकारी का प्रभार सौपा गया।



प्राप्त जानकारी के अनुसार जैसे ही विभाग में घपले-घोटालों की भनक जिला कलेक्टर को लगी वैसे ही जोरदार डांट पड़ी और प्रभारी अभय खराडी को प्रभार मुक्त का आदेश दिया। लेकिन इसके पहले यह भी तय किया गया कि अब प्रभार किसके हाथों में दिया जाये तो सबसे पहले उस सहायक अधिकारी को ही ऑफ़र किया गया, जो पहले प्रभारी रह चूका था। किन्तु पुराने कुछ जंग लगे कारणों की वजह से उस अधिकारी ने प्रभारी कार्यक्रम अधिकारी बनने से इंकार कर दिया और डिप्लोमेटिक उत्तर प्रस्तूत कर अपने सीनियर को प्रभार देने के लिये नाम आगे कर दिया। 

हालांकि जिला कलेक्टर ने 24 नवंबर को आदेश जारी कर राधूसिंह बघेल को जिला कार्यक्रम अधिकारी का प्रभार सौपा गया मगर सप्ताह के अंत तक पुराने प्रभारी अभय खराडी ने प्रभार छोड़ा नहीं था यहा तक की संविधान दिवस के कार्यक्रम में भी हस्ताक्षर डिप्टी कलेक्टर खराडी के ही थे।  फिर सारे काम निपटा कर सोमवार से नये प्रभारी ने कुर्सी सम्भाली। मगर कहानी जस की तस हैं।

बहरहाल, पवित्र नदी में डुबकी लगाने से मन पाप नहीं धुलते। विभाग भी योजनाओं के मद्देनजर वैसी ही चाल चल रहा हैं। खेल वही, विभाग वही चाल वही बस हस्ताक्षर बदले हैं। 

रहें हर खबर से अपडेट झाबुआ समाचार के साथ

ख़बर पर आपकी राय

Famous Posts

Sports