झाबुआ DPC पर कस्तूरबा गांधी बालिका हॉस्टल में शराब कबाब के सेवन का लगा आरोप- किसान मोर्चा के महामंत्री ने कहा भ्रष्ट अधीक्षीका को हटाया जाये।



बीते दिन किसान मोर्चा के महामंत्री ने DPC पर आरोप लगते हुये एक वीडियो जारी किया है जिसमें किसान मोर्चा महामंत्री ने DPC पर सीधा आरोप लगाया है कि वो अपने अधीनस्थ के साथ रानापुर के ग्राम ढोल्यावाड में स्थित कस्तूरबा गांधी बालिका छात्रावास में आये और वहां शराब पीकर मांसाहार का सेवन किया। इस तरह की पार्टी की पूरी तरह से जिम्मेदार छात्रावास की अधिक्षीका है। जिसने अपनी शिकायत को कमजोर करने के लिये DPC को शराब कबाब की दावत दी।



किसान मोर्चा के महामंत्री ने बताया है कि होस्टल में अधिक्षीका न के बराबर आती है, पढाती भी नहीं है साथ ही फर्जी उपस्तिथि दर्ज करवाती है। जिसकी बहुत बार शिकायत करने के बावजूद भी कोई कार्यवाही नही की गई। तत्कालीन DPC एल एन प्रजापति के समय भी शिकायत की गयी थी मगर कार्यवाही तो दूर जांच भी नही की गयी। सारा मामला मुलाकातों में समाप्त कर दिया गया। 
इसी प्रकार वर्तमान में जब शिकायत की तो DPC और अन्य अधिकारियों को दावत दे कर पिघला दिया गया। 


मामले में जब DPC झाबुआ से बात की गयी तो उन्होने ऐसे सारे आरोपो को खारिज कर दिया और बताया कि शिकायत पर जांच की जा रही है जो की 2 से 3 दिनों में पुरी हो जायेगी। DPC ने कहा कि अधिक्षीका कोरोना काल की वजह से आ नहीं पाई, फिर बच्चें नहीं थे छात्रावास में तो वो क्या करती आ कर, इसलिये नहीं आ सकी। फिर शराब और मांसाहार की दावत वाले आरोप पर DPC ने इंकार कर दिया और कहा हम सभी ने हॉस्टल में बनी गोबी की सब्जी खाई थी। 

हालांकि, किसान मोर्चा के महामंत्री का मकसद किसी को बदनाम करना नहीं है अपितु वो बस इतना चाहते है कि जिस उद्देश्य से बालिका छात्रावास बनाया गया है वो पुरा हो। अधीक्षीका के नहीं आने से हॉस्टल में बहुत ही कम बालिकाएं हैं।

बहरहाल हर जांच के पन्ने खुलेआम हो जाते हैं और जांचकर्ता अधिकारी शिकायती कर्मचारी को बचने के रास्ते बता देता है बशर्त है की अधिकारी की डिमांड पुरी हो जाना चाहिए।

रहें हर खबर से अपडेट झाबुआ समाचार के साथ

ख़बर पर आपकी राय

Famous Posts

Sports